शुक्रवार, 19 जून 2009

वो राग रागिनी सी चंचल


वो राग रागिनी सी चंचल
झंकृत मन को कर देती
बाला कहाँ सुरा तीव्र है
मदमय तनमन जीवन देती

स्वप्न लगे कभी सत्य लगे
जो क्षण क्षण सरगम बजती
सुरमय तपते अधरों पर
जब थरथर वीणा सजती

शांत सरोवरों की हलचल
बन किसी किनारे चल देती
वो राग रागिनी सी चंचल
झंकृत मन को कर देती

उठती उमंग मन लहरों सी
जब झलके मुख उस प्रतिमा का
निज प्रेम जहाँ तक प्रसरित है
है पता नहीं उस सीमा का

वह घटा बरसती जो दो पल
मेरा जीवनघट भर देती
वो राग रागिनी सी चंचल
झंकृत मन को कर देती

नदियों की धारा सी निर्मल
वो रूप षोडशी सागर सी
पत्तों पर बूंदों सी बहकर
अधजल छलकी गागर सी

वो प्रेम सरिता की कलकल
तन मन पावन कर देती
वो राग रागिनी सी चंचल
झंकृत मन को कर देती

पाखी

21 टिप्‍पणियां:

soniakumari ने कहा…

बहुत सुन्दर शब्दों में कविता लिखी है....

sanjay vyas ने कहा…

हिंदी गीतों की मंद होती धारा में आपने जैसे वेग प्रदान कर दिया हो.बढ़िया. इस श्रंखला को कुछ और चलाएं.

अनिल कान्त : ने कहा…

waah mazaa aa gaya

कंचन सिंह चौहान ने कहा…

सुंदर शब्दों से सजी कविता ...अच्छा प्रयास...!

avinash ने कहा…

भाई साहब ,
बहुत सुन्दर कविता लगी....पढ़कर अच्छा लगा
समर्पण के भाव को सुन्दरता से व्यक्त किया है...

Kishore Choudhary ने कहा…

सुन्दर गीत रचना है कविता से थोड़ा आगे किन्तु दिल के बहुत पास
संजय जी की फरमाईश के साथ मेरा भी स्वर मिला हुआ समझाने का कष्ट उठाया जाये. बधाई

M VERMA ने कहा…

वो राग रागिनी सी चंचल
झंकृत मन को कर देती
khoobsurati se likhi khoobsurat rachana.

शोभना चौरे ने कहा…

alnkaro se bhrpur

नदियों की धारा सी निर्मल
वो रूप षोडशी सागर सी
पत्तों पर बूंदों सी बहकर
अधजल छलकी गागर सी
sundar rachna .

मुकेश कुमार तिवारी ने कहा…

हिन्दी के क्लासिकल टच वाला गीत अंलकारों / उपमाओं से भरपूर बाला के सौन्दर्य में चार चाँद लगा देता है।

सुन्दर, सुखद रचना।

सादर,

मुकेश कुमार तिवारी

Udan Tashtari ने कहा…

बेहतरीन प्रवाहमय गीत!!

Harkirat Haqeer ने कहा…

नदियों की धारा सी निर्मल
वो रूप षोडशी सागर सी
पत्तों पर बूंदों सी बहकर
अधजल छलकी गागर सी

सुन्दर गीत रचना ....!!

राजकुमारी ने कहा…

आपने बहुत सुन्दर गीत लिखा है. इसने मेरे मन को छु लिया है. ऐसे ही लिखते रहने की शुभकामनाएं.

OMPAL SINGH BHATI ने कहा…

bahut sundar .... shabd nahi hai aapki taarif karne k liye....

Babli ने कहा…

बहुत ही सुंदर कविता लिखा है आपने जो काबिले तारीफ है!

Pakhi ने कहा…

Uncle! Itna sundar kaise likhte hain ap.

महफूज़ अली ने कहा…

स्वप्न लगे कभी सत्य लगे
जो क्षण क्षण सरगम बजती
सुरमय तपते अधरों पर
जब थरथर वीणा सजती


Bahut shaandaar .....dil ko chhoo lene wali lines hain..........

ati sunder kavita

दर्पण साह "दर्शन" ने कहा…

स्वप्न लगे कभी सत्य लगे
जो क्षण क्षण सरगम बजती
सुरमय तपते अधरों पर
जब थरथर वीणा सजती
......................


hindi ke shabdo ko agar kisi bacche ke khilono ke saath saja diya jaaye aur dikhaya jaiye jamane ko....

...to jamane ko bacche ki khushi se pyar bhi hone lagega aur apne pachpan khone ka rashk bhi !!


abhipray ye hai ki bahut dino baad hindi ki itni acchi kavita padhi...

...mast !!

aur haan apka profile bhi accha hai...

"21 ki phool 25 ki maala...
...jalne wale tera muh kala !"

Mumukshh Ki Rachanain ने कहा…

सुमधुर गीत ,

बधाई

चन्द्र मोहन गुप्त

sandhyagupta ने कहा…

Atyant bhavpurn aur sundar abhivyakti.

गौतम राजरिशी ने कहा…

पापा के उस प्यारे से खत के बाद अब लौटा हूँ आपके ब्लौग पर...नुकसान मेरा ही है। पह्ले तो एक लाजवाब तरही के लिये सैकड़ों बधाई...वाकई!

और ये कविता खूबसूरत बन पड़ी है। नीचे में लिखा हुआ "पाखी" उलझा गया।

"उठती उमंग मन लहरों सी जब झलके मुख उस प्रतिमा का / निज प्रेम जहाँ तक प्रसरित है
है पता नहीं उस सीमा का"
बहुत सुंदर पंक्तियां!

अल्पना वर्मा ने कहा…

बहुत ही सुन्दर गीत लिखा है यह...शब्द संयोजन बहुत अच्छा लगा.